Poetry

EBook Launch

Dear friends The hysteria on Twitter doesn’t seem to be dying out today because it is the Blog chatter Ebook Carnival! Unlocked- Historical Tales in Verse my debut book based on the A to Z Series 2020 is enlisted right there and is available for free download for a short period. So, what are you …

EBook Launch Read More »

Blogchatter A to Z Challenge 2020- THEME REVEAL

April is around the corner folks and the Blogging World is gearing up for yet another A to Z Challenge 2020. Last year, I had jumped in at the nick of time, without a theme and without preparation, and had landed up burning the midnight oil. But what a time I had! I found some …

Blogchatter A to Z Challenge 2020- THEME REVEAL Read More »

मैं इश्क़ हूँ

सच मे,तुम्हारी कसम,चाँद को हथेली पर रख सकता हूँमैं इश्क़ हूँकुछ भी कर सकता हूँ!तारों की बारातसजा सकता हूँबिंदु से तरंगेउठा सकता हूँमन को आतुरकर उसकी थाह लेता हूँमैं इश्क़ हूँइन्द्रजालों में पनाह लेता हूँ।मैंने आसमान को लाल भी रंगा हैपंखों के बिनाउड़ने का स्वाद भी चखा है,फीकी खिचड़ी को भोज बताया हैमैं इश्क़ हूँमैने …

मैं इश्क़ हूँ Read More »

रहती है सिर्फ याद

रास्ते सफर बन जाते हैं ढूंढ लेते हैं नए सिरे अंत से पहले। बालों में उलझा हवा का झोंका झटक जाता है, समय की छलनी से मैं देखती हूँ पहाडों पर बिखरती धूप। मुट्ठी में भर लायी थी जो, उस सुबह की भीनी सुगंध को चुटकी भर सूंघ लेती हूँ। दर्पण सा साफ था नीले …

रहती है सिर्फ याद Read More »

सूर्य पर भी ग्रहण आता है

देखो न सूर्य पर भी ग्रहण आता है पल भर के लिए ही सही उसका बिम्ब भी छिप जाता है। चाँद को अपनी छाया पर गुमान है मगर यह दिवाकर अभी भी आग के गोले के समान है हीरे की अंगूठी सा दमकता है सूरज गुमनामी में भी चमकता है। वह जानता है यह तो …

सूर्य पर भी ग्रहण आता है Read More »

FAILURE

(Here is an attempt at writing an acrostic poem) Fallen and disgraced Again I rise Like a Phoenix Undaunted and Resolute until Eternity! (All rights reserved)

The Tale of the Sergeant and his Men

“Raise your right hand,” cried the sergeant who stood facing the squad, They complied immediately but only to invite his wrath. “You raise your left, when I say right,” he angrily exclaimed, “I see that you haven’t been, properly trained. The right is what you use to lift a heavy load and write your will …

The Tale of the Sergeant and his Men Read More »

तुम कहते हो दिसंबर खुदगर्ज़ है…

तुम कहते हो दिसंबर खुदगर्ज़ है दिन और साल, दोनो चुरा ले जाता है। इस बार फिर सर्दी की खटखटाहट सुन रही हूँ बांवरे दिसंबर की आहट सुन रही हूँ। देखी होगी तुमने भी उसकी खुदगर्ज़ी; सिहरन भरी रातों को सिगड़ी का साथी बना देता है कभी प्यार को शाल की तरह ओढ़ा देता है …

तुम कहते हो दिसंबर खुदगर्ज़ है… Read More »

Rusty and Me

It’s almost midnight. I have a new picture as my facebook profile. On my lap lies a story from ‘Potpourri‘. Ruskin is Rusty in ‘Love and Cricket’ where he meets his beloved Sushila after more than a decade. The notifications on the mobile disturb their conversations of subtle love. Rusty is glad but Sushila looks …

Rusty and Me Read More »

%d bloggers like this: