Tag: #poem

सूर्य पर भी ग्रहण आता है

देखो न सूर्य पर भी ग्रहण आता है पल भर के लिए ही सही उसका बिम्ब भी छिप जाता है। चाँद को अपनी छाया पर गुमान है मगर यह दिवाकर अभी भी आग के गोले के समान है हीरे की अंगूठी सा दमकता है… Continue Reading “सूर्य पर भी ग्रहण आता है”

The Tale of the Sergeant and his Men

“Raise your right hand,” cried the sergeant who stood facing the squad, They complied immediately but only to invite his wrath. “You raise your left, when I say right,” he angrily exclaimed, “I see that you haven’t been, properly trained. The right is what… Continue Reading “The Tale of the Sergeant and his Men”

%d bloggers like this:
%d bloggers like this: