POETRY

FAILURE

(Here is an attempt at writing an acrostic poem) Fallen and disgraced Again I rise Like a Phoenix Undaunted and ...
Read More

The Tale of the Sergeant and his Men

"Raise your right hand," cried the sergeant who stood facing the squad, They complied immediately but only to invite his ...
Read More

तुम कहते हो दिसंबर खुदगर्ज़ है…

तुम कहते हो दिसंबर खुदगर्ज़ है दिन और साल, दोनो चुरा ले जाता है। इस बार फिर सर्दी की खटखटाहट ...
Read More

पतझड़

सुनहरा, लाल, भूरा खूबसूरती का यह रंग मुझे लगता है अधूरा। क्यों पत्तियाँ गिरा देते हैं पेड़ जर्जर होते जीवन ...
Read More

Rusty and Me

It's almost midnight. I have a new picture as my facebook profile. On my lap lies a story from 'Potpourri' ...
Read More

Politics and Tea

The scholarly commoners glibly discussed politics The course and recourse of History Their insights Several wrongs and a right! What ...
Read More

खोल दो…

खोल दो भींची हुई मुट्ठियाँ जकड़े हुए अचम्भों के दरवाज़े विस्मय पर लगे ताले। मान लो कि लोमड़ी और गीदड़ ...
Read More

The Conspiracies of Silence

The drum beats loud. It's the time of the day when the hunter must prey. A whiff of fear permeates ...
Read More

वो, तुम्हारे भीतर वाली दुनिया

वो तुम्हारे भीतर वाली दुनिया कभी शांत, स्थिर, मूक सी, आडंबर को ताकते हुए निस्तब्ध रहकर सिद्धी पाती है। कभी ...
Read More

फ़हरिस्तों वाली ज़िन्दगी

खुले मैदानों से निकलकर फ़हरिस्तों मे कैद हो गई ज़िन्दगी न जाने कब आंकड़ों मे खो गई सीलन भरी दीवार ...
Read More
Loading...