वो, तुम्हारे भीतर वाली दुनिया

वो
तुम्हारे भीतर वाली दुनिया
कभी शांत, स्थिर,
मूक सी,
आडंबर को ताकते हुए
निस्तब्ध रहकर
सिद्धी पाती है।

कभी अचानक…
उपद्रवी सी होकर
हंगामा मचाती है।
धरातल खंगर सा लगे
पर भीतर अश्रु बहाती है।
बेदाम, दुस्साहसी बन कर
आज़ादी चाहती है।

फिर तुम
उसका हाथ थाम लेते हो।
लम्बा सा सुफियाना कलाम सुनाकर,
उसे संत, महात्मा बना देते हो।
समझदारी का पाठ पढ़ाकर
फ़लक पर बिठा देते हो।

वो
तुम्हारे भीतर वाली दुनिया
फिर इस दासत्व को न चाहकर भी
स्वीकार कर लेती है,
और आजीवन कैद रहने को
अपना भाग्य मान लेती है।

-सोनिया डोगरा

Advertisements

11 thoughts on “वो, तुम्हारे भीतर वाली दुनिया

  1. God bless you always…
    Your words explain our inner state of mind so well… I think at some point… We all feel the same… So well expressed
    Keep it up… 👍

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s