तेरा आशय महान है

तेरा कर्म उड़ान है,
प्रतिफल नही
तेरा आशय ही महान है।
सतह का स्पर्श विराट नही
स्पर्श का स्वप्न देखना विशाल है।
अंत मे अनंत हो
ज़रूरी तो नही,
अनंत की संभावना जगाना ही कमाल है।
चांद का कद ऊँचा ही सही,
तेरे हौसले की बुलंदियों पे मुझे अभिमान है।
प्रतिफल नही,
तेरा आशय महान है, तेरा आश्य महान है।

20 thoughts on “तेरा आशय महान है”

  1. This is so encouraging, well said “Tera Aashya Mahan Hai” efforts never goes into the vain same as ISRO, may be result is not received as per expectation but then also kudos to their good start, hard work, and their zeal.

Leave a Reply to Swati Khatri Cancel reply

%d bloggers like this: