क्यों दंभ हूँ मैं?

मैं तो एक कण हूँ
विशाल समय का एक क्षण हूँ,
धरातल पर बहता सा
एक भ्रम हूँ,
शायद मैं छल हूँ,
बस आज हूँ
नही कल हूँ मैं।
मैं अथाह सागर
की सिर्फ
एक बूंद हूँ,
रत्ती भर हूँ
रेत मे,
मिट्टी नही
धूल हूँ,
पर्वत की चट्टान नही
ज़र्रे सी लुप्त हूँ,
ब्रह्माण्ड मे उल्का सी
भस्म हूँ

फिर भी क्यों दंभ हूँ मैं,
नश्वर हूँ
पर घमंड हूँ मैं।
क्यों
सर्दियों की ठंड मे
सिहरता हुआ
झीना सा अहंकार हूँ?

कुदरत को देखो
तो अल्प हूँ मैं
न्यून सा कोई विकल्प हूँ मैं।
फिर भी क्यों दंभ हूँ मैं
नश्वर हूँ
पर घमंड हूँ मैं।

17 thoughts on “क्यों दंभ हूँ मैं?

  1. Wah Sonia … such depth in your poetry …. always wintenessed in your English work but this is so beautiful … feels like reading aloud 👌👌👍👍

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s