बंद दरवाज़ा/ Closed Door

FB_IMG_1557039002055एक दरवाज़ा, दो कहानियां।

One door, two stories…

Based on this picture prompt by Women’s Web, here are two different takes on a teal blue door.

**†*******************************

‘When one door closes, God opens another one right there and then. Years ago, a certain door was shut right on my face. I was a five grade pass-out then, shunned by her husband, scared and unsure of herself. But that door, the one that was slammed on my face, it stayed with me all through my struggle. Sometimes the things that break you are the ones that make you…’
Saying this, Shreya unveiled her internationally acclaimed painting. A poignant teal blue door against a white background.

*******************************

‘पता नही, पर अब तो कई सालों से ये किवाड़ बंद पड़े हैं। देखिये न इनमे सिलवटें भी पड़ गयी हैं। कोई समय था जब इन दरवाजों पर चिटकनी ही नही लगती थी। बच्चे अंदर बाहर दौड़ते रहते थे।’
‘और अब?’ मैंने पूछा।
‘ अब तो वो ज़्यादा दूर दौड़ गए साहब। रोटी तो यहां भी थी पर उनके सपनों जितनी बड़ी नही।’
अम्मा ने भरी हुई आवाज़ में कहा।

 

13 thoughts on “बंद दरवाज़ा/ Closed Door”

  1. Chander Mohan Dangwal

    आपने बहुत ही सुन्दर शब्दो में बंद दरवाजे पर लेख लिखा है |आपके ज्ञान को मेरा प्रणाम है |

        1. आपने बहुत ही सुन्दर शब्दो में बंद दरवाजे पर लेख लिखा है |आपके ज्ञान को मेरा प्रणाम है |

Leave a Reply

%d bloggers like this: